/>

Saturday, 14 May 2016

Holi Festival celebrate kyo karte hai jane hindi me


   /""/__/""/
/   __     /
/__/""/__/APPY

   /""/__/""/
/   __     /
/__/""/__/OLI

भारत को त्यौहारों का देश कहा जाता है, भारत में बहुत सारे त्यौहार है लेकिन Holi सभी भारतवासियों के लिए खास है, होली रंगों का त्यौहार है, इस दिन हम एक दुसरे को रंग लगाते है होली के दिन हम सभी अपने लड़ाई,गुस्से को भूल कर एक दुसरे को रंग लगते है, होली का हम सभी के लिए खास होता है क्योकि होली यानि की रंगों का त्यौहार है, इस दिन बड़े छोटे, चाचा-चाची, माता- पिता के आशीर्वाद प्राप्त करना बहुत ही शुभ माना जाता है, इस सभी सुबह कर अपने दोस्तों और रिश्तेदारो के घर जाकर होली खेलते है, और सबके घरो में पकवान बनाता है, होली को प्यार का दिन भी कहा जाता है क्योकि सभी एक साथ होली खेलते है,इस दिन प्रेमी अपने प्रेमिका को गुलाल लगाता है और अपने प्यार का इजहार करता है.

Holi Festival celebrate


होली हम क्यों मानते है - Holi
होली से पहले एक दिन होलिका दहन होता है इस दिन होलिका जलाई जाती है, होलिका जलाने का कारण होली पूर्णिमा को जलाई जाती है, इससे एक रात पहले होलिका जलाई जाती है,भक्त प्रहलाद के पिता हिरनकश्यप खुद को भगवान मानते थे, वो भगवान विष्णु के विरोधी थे, लेकिन ठीक उसके उल्टा उनका पुत्र प्रहलाद सच्चा विष्णु भक्त था, प्रहलाद के पिता ने उससे हरी विष्णु की भक्ति छोड़ने के लिए कहा - लेकिन प्रहलाद ने कहा - में सब कुछ छोड़ सकता हु लेकिन विष्णु भक्ति नहीं छोड़ सकता हूँ, ऐसे ही  उनके पिता ने बहुत सारे कोशिश किया लेकिन उन्हें अंत में हार मान कर अपनी बहन होलिका से सहायता मागीउनकी बहन को आग में न जलने का वरदान था,इसलिए वो प्रहलाद को गोद में लेकर आग में बैठ गयी, लेकिन भगवान विष्णु की भक्ति के कारण प्रहलाद को कुछ नहीं हुआ, और हिरनकश्यप की बहन होलिका आग में जल कर राख हो गयी,इस कारण से होली का त्यौहार पुरे भारत में ख़ुशी से मनाया जाता है
शिक्षा
यानि की बुराई पर अच्छाई की जीत हुई, और आगे भी होती रहेगी. जब तक अच्छाई है तब तक ये संसार है , और इस कारण से Holi का त्यौहार पुरे भारत में ख़ुशी से मनाया जाता है तब से लेकर आज होली हर साल फाल्गुन के महीने में पूर्णिमा के अगले दिन मनाया जाता है

0 comments:

Post a Comment

Search This site

Popular Posts

Hindi Online Help. App

Contact Us

Name

Email *

Message *